शादी के 35 साल बाद घर में गूंजी किलकारियां, परिजनों में खुशी का माहौल……….

दोस्तों जब किस्मत खुलती है तो इंसान की वो खवाहिशे भी पूरी हो जाती है,जिसकी उम्मीद इंसान छोड़ चूका होता है,कई बार इंसान किसी खुवाहिश को पूरी करने के लिए लाख कोशिशे करता है,पर वो सफल नहीं हो पता है,और निराश होकर हार मन लेता है,पर कई लोग ऐसे भी होते है जो हार नहीं मानते है, ऐसा ही एक मामला सामने आया है जहा औलाद के लिए तड़पते माँ बाप की खुवाहिश पूरी हुयी,

और शादी के 35 साल बाद ये लोग मातापिता बने. इन पेंतीस सालो में इस दम्पति ने शायद ही कोई जगह हो, जहा इन्होने बच्चे के लिए इलाज नहीं कराया,पर इन्हे सफलता नहीं मिली । पर अब जाकर इनके जीवन में वो ख़ुशी आयी जिसका ये इंतज़ार कर रहे थे,तो आइये जानते है ये पूरा मामला…….

इस दम्पति ने डॉक्टर के सी शर्मा अमेरिकन अस्पताल सर्राफ बाजार अम्बाला छावनी के आयुर्वेदिक इलाज से बच्चा हुआ,दंपत्ति ने कई बड़े अस्पताल,सरकारी अस्पताल से लेकर कई जगहों मुंबई,चेन्नई,पीजीआई चंडीगढ़,रोहतक अस्पताल,कलकत्ता सहित कई अस्पतालों में घूम घूम कर इलाज कराया,पर इनके हाथ केवल निराशा के कुछ न लगा । समय और पैसा पानी की तरह बहाने के बाद भी इनके हाथ कुछ न लगा,और दोनों ने उम्मीद खो दी ।

पर कहते है न ऊपर वाले के घर देर है अंधेर नहीं.. इनकी किस्मत ने ज़ोर मारा,और किसी मित्र के ज़रिये ये ‘जो की दिल्ली में रहता था”ये डॉ किसी शर्मा अमेरिकन अस्पताल सर्राफ बाजार ”जो की एक आयुर्वेदिकअस्पताल है”से संपर्क किया,यहाँ नब्ज़ दिखाकर इलाज होता है,इस दम्पति का इलाज़ज़ शुरू हुआ,और इलाज के बाद जिस खुष खबरि का इनको इंतज़ार था,

वो इन्हे मिल गयी,जल्द ही इनके घर किलकारियां गूँज उठी,और ये मातापिता बन गए,जिस दम्पति ने उम्मीद खो दी थी की वो कभी औलाद का सुख देख पाएंगे या नहीं ,उनको आयुर्वेदिक इलाज़ के ज़रिये से अपनी खुहिया मिल गयी,अब इनके घर में खुशियों का माहौल है ।

Check Also

ভোটার কার্ড দেখালেই ভ্যাকসিন, মন্ত্রিপরিষদ বিভাগে নতুন সিদ্ধান্ত

আর রেজিস্ট্রেশন নয়, আগামী ৭ আগস্ট থেকে ১৮ বছর বয়সী সকলে নিজের ভোটার আইডি অর্থাৎ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *