पोती को पढ़ाने के लिए बेच दिया घर अब दिनभर ऑटो चला कर रात में उसी में सोता है यह बुजुर्ग

हमारे सुख-दुख के जीवन पर ही कुछ कहानियां आधारित होती है लेकिन कई बार ऐसी घटनाएं सामने आती है जो दिल को दहला देती है। ऐसे ही एक सच्ची कहानी हम आज आपको बताने वाले हैं।

पोती को पढ़ाने के लिए बेच दिया घर  अब दिनभर ऑटो चला कर रात में उसी में सोता है यह बुजुर्ग

यह कहानी देशराज नाम के एक बुजुर्ग ऑटो ड्राइवर की है। इनके दोनों बेटे इस दुनिया को छोड़ कर जा चुके हैं। इसलिए 7 लोगों  का घर खर्च और पोते पोतियो की पढ़ाई का खर्च उनके ऊपर ही आश्रित है। 6 साल पहले इनका बड़ा बेटा घर से गायब हो गया था। 1 सप्ताह के बाद उसका शव मिला। अगले ही दिन से देशराज ऑटो चलाने लगे। 2 साल के बाद इनके छोटे बेटे ने भी आत्महत्या करके अपनी जान दे दी।

इस हादसे के बाद वह पूरी तरह टूट कर बिखर चुके थे। उन पर बहू और पोते पोतियो की जिम्मेदारी थी। वे सुबह 6:00 बजे से ही ऑटो चलाते लगे।वह महीने का लगभग 10,000 कमाते है। देशराज ने बताया कि बहुत बार ऐसा हुआ है कि उनके घर में खाने को कुछ नहीं होता था। उनकी पत्नी भी बीमार थी।

पोती को पढ़ाने के लिए बेच दिया घर  अब दिनभर ऑटो चला कर रात में उसी में सोता है यह बुजुर्ग

बाद में उनकी पोती 12वीं में 80% अंक लाई। इस खुशी में देशराज ने पूरे दिन अपने ऑटो पर सबको फ्री में घुमाया। उनकी पोती को बी एड करना था। वह जानते थे कि उनके पास पैसे नहीं है लेकिन फिर भी उन्होंने उससे दिल्ली भेजा और अपना घर भेज दिया। बाकी परिवार के सदस्यों को उन्होंने अपने रिश्तेदारों घर भेज दिया और खुद ऑटो में सोने लगे।

पहले उन्हें थोड़ी दिक्कत होती थी, लेकिन जब पोती फोन करके अपने फर्स्ट आने की खबर बताती थी तो  वह सब भूल जाते। यह कहानी सबको पता चलने के बाद बहुत से लोग उनकी आर्थिक रूप से मदद करने के लिए तैयार हुए। इसीलिए कभी भी सब्जी वाले, ऑटो वाले इन सब से मोलभाव नहीं करनी चाहिए क्या पता सब कौन सी स्थिति में हो।

Check Also

শিশুপুত্রকে বিচারকের অস্ত্র চালনার ট্রেনিং, ভাইরাল ভিডিও

পিস্তল হাতে শিশুপুত্র। পেছনে দাঁড়িয়ে বিচারক পিতা। তিনি ছেলেকে শেখাচ্ছেন ট্রিগার চাপার কৌশল। ছেলেও একের …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *