इन 8 करोड़पति इंडियन क्रिकेटर्स ने बचपन बहुत गरीबी और संघर्ष में गुज़ारा, एक तो चौकीदारी करता था

भारतीय टीम में कई महान खिलाड़ी हुए है.जिन्होंने अपने प्रदर्शन से टीम को जीत के मुकाम तक पहुंचाया है.भारतीय टीम में कुछ ऐसे भी प्लेयर है जो अपनी जिंदगी में बहुत गरीबी से जूझते हुए अपनी मेहनत और काबिलियत के दम पर मुकाम पाया है.आज आपको आठ ऐसे ही महान खिलाड़ी की बात करेगे जिन्होंने अपने खेल से बहुत नाम कमाया है लेकिन यहां तक आने के लिए बहुत संघर्ष भरी जिंदगी से आए है–

1.महेंद्र सिंह धोनी–भारतीय टीम का वो कप्तान जिसे कैप्टन कूल कहा जाता है.भारतीय टीम को ऊंचाई पर ले जाने का श्रेय धोनी को जाता है. आईसीसी का हर टूर्नामेंट अपने नाम कर चुके है.महेंद्र सिंह धोनी के बारे में काफी काम लोग ये बात जानते है की उन्होंने अपने शुरआती दिनों में रेलवे में तीती का काम भी किया है,काफी कोशिशिशो के बाद भी उन्हें टीम इंडिया में जगह नहीं मिली.पर उन्होंने हिम्मत नहीं हारी,और आज अपनी शानदार बेटिंग कप्तानी और विकेटकीपर के कारण पूरी दुनिया के चहेते है.

2.रोहित शर्मा–दुनिया में सबसे ज्यादा वनडे में दोहरा शतक रोहित शर्मा ने लगाये है.अपनी बचपन में क्रिकेट सीखने के लिए लंबी दूरी पैदल तह करते जाते थे.टीम में कई बार बाहर बैठने के बाद भी हिम्मत नही हारी है.आज टी20 क्रिकेट का सफल कप्तान माना जाता है. गरीबी में रहते हुए भी मेहनत के दम पर खुद को काबिल बनाया.

3.रविन्द्र जडेजा–भारतीय टीम का महत्वपूर्ण ऑलराउंडर में शुमार रविंद्र जडेजा गेंद और बल्ले के साथ फिल्डिंग में भी माहिर है.घर की स्थिति के कारण शुरुआत में चौकीदार करते थे.अपनी गरीबी के आलम में खाने को पैसे भी नही थे.अपनी जिंदगी में संघर्ष करके खुद को इस मुकाम पर पहुंचाया है.

4.भुवनेश्वर कुमार–भारतीय क्रिकेट टीम का स्विंग का जादूगर कहे जाने वाले भूवी ने बड़े बड़े खिलाड़ियों के विकेट निकाले है.गरीब पिता का एक सपना था उसका बच्चा भारतीय टीम के लिए खेले।भुवनेश्वर कुमार ने जीवन में कई कठिनाइयों का सामना किया और माँ बाप का ये सपना अपनी मेहनत और लगन से पूरा कर दिया.

5.उमेश यादव–अपनी गति के दम पर किसी भी बल्लेबाज के छक्के छुड़ा देने वाले उमेश यादव ने संघर्षों से भरा है.क्रिकेट से पहले वे कोयला खदान में काम करके अपनी परिवार का पेट पालते थे.इस आमदनी से उनके परिवार के रोटी का गुजारा होता था.लेकिन मेहनत का परिणाम सबके सामने है.

6.अंजिक्य रहाणे–मिस्टर क्लासिक के नाम से मशहूर रहाणे ने गरीब परिवार से होने बावजूद अपने टैलेंट के दम पर भारतीय टीम में जगह बनाई थी.बचपन अभावों में गुजरा था और खाने को पैसे भी नही थे,पर आँखों में सपना था क्रिकटर बनने का,तमाम कठिनाइयों से जूझते हुए उन्होंने टीम इंडिया में जगह बनाई.

7.जसप्रीत बुमराह–अपनी यॉर्कर से किसी भी घातक बल्लेबाज के विकेट उखाड़ देते है.डेथ ओवर स्पेशलिस्ट के नाम से मशहूर बुमारह के जीवन में काफी बुरे दिन देखने पड़े थे.पिता की मृत्यु के बाद तो टूट गए थे लेकिन संघर्ष करते हुए आज दुनिया में सबसे बेस्ट बॉलर माने जाते है.
भारतीय टीम में ये सितारों ने दिखा दिया की अगर मेहनत की जाए तो सब हालत को बदला जा सकता है.अपनी काबिलियत पर भरोसा करने से अप दुनिया के सामने अच्छा प्रदर्शन कर सकते है.

Check Also

শিশুপুত্রকে বিচারকের অস্ত্র চালনার ট্রেনিং, ভাইরাল ভিডিও

পিস্তল হাতে শিশুপুত্র। পেছনে দাঁড়িয়ে বিচারক পিতা। তিনি ছেলেকে শেখাচ্ছেন ট্রিগার চাপার কৌশল। ছেলেও একের …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *